Sudarshan Today
rajgarh

सड़क की चौड़ाई से थोड़ा ही कम भरा हे यह भूसे का वहान। लगातार ओवरलोडिंग का खेल जिले में जारी।

सुदर्शन टुडे राजगढ़

राजगढ़। जिला प्रशासन ने जिले के बाहर जाने वाले पशु चारे पर प्रतिबंध लगा रखा है। लेकिन इसका असर भूसे के दलालों, व्यापारियों व लोडिंग वाहन मालिकों पर कहीं दिखाई नहीं दे रहा है। पिछले वर्ष से लेकर गेहूं की कटाई तक जिले में हुई भूसे की कमी को लगातार जिले में देखा गया है। कई बार ऐसी स्थिति भी निर्मित हुई जब भूसा अनाज के भाव बिक गया। क्योंकि मवेशियों को जिंदा रखने के लिए व उनसे मिलने वाले दूध को बढ़ाने के लिए गेहूं का भूसा किसान के लिए बहुत ही जरूरी था। ऐसे में जब जिले में भूसे की कमी सामने आई तो लगातार किसानों द्वारा भूसे के दलालों द्वारा इकट्ठा करके रखा गया भूसा अनाज के दाम तक बिकने लगा। लेकिन मजबूरी में किसानों ने उसे भी खरीदा। बले ही जिला प्रशासन ने जिले से बाहर ले जाने के लिए पशु चारे पर प्रतिबंध लगा रखा हो लेकिन अभी भी यहां इस प्रतिबंध का असर कहीं दिखाई नहीं दे रहा और लगातार पशुओं का चारा जिले के बाहर दलालों के माध्यम से लाया, ले जाया जा रहा है। इतना ही नहीं जिन वाहनों से भूसे का परिवहन हो रहा है उनकी क्षमता से 3 से 4 गुना अधिक भूसा उन वाहनों में भरते हुए परिवहन किया जा रहा है। तीन दिन पहले ऐसा ही एक वाहन बाईपास पर पलट गया था जिससे लंबे समय तक जाम की स्थिति निर्मित रही वहीं जेसीबी के माध्यम से उसे सीधा करते हुए भूसा मलिक ने वापस लोड कर लिया लेकिन किसी प्रकार की कोई कार्यवाही यातायात पुलिस या प्रशासन द्वार नहीं गई। यही कारण है कि यह लगातार सक्रिय होकर इस धंधे को कमाई का साधन बनाते हुए जिले के किसानों से ओने , पोने दामों में खरीदते हुए जिले के बाहर पशु चारे का भंडारण कर रहे हैं। शनिवार को फिर से कई ऐसे वाहन राजगढ़ नगर के बाईपास के साथ ही ब्यावरा, खिलचीपुर आदि सड़कों पर देखे गए जिनकी भराई क्षमता जितनी हो सकती है उसकी अपेक्षा चार गुना से भी अधिक लोड करते हुए सड़क की चौड़ाई से थोड़ी कम त्रिपाल लगाकर अवैध रूप से परिवहन किया जा रहा है। और जिला प्रशासन के साथ ही पुलिस प्रशासन यातायात सभी की आंखों में धूल झोंकते हुए यह परिवहन लगातार जिले के बाहर तक होता दिखाई दे रहा है अगर यही स्थिति रही तो आने वाले समय में जिले में संचालित होने वाली गौशालाओं के लिए चारे की व्यवस्था पंचायतें कहां से करेगी और अगर चारे की व्यवस्था होगी तो उसका भाव क्या होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।।

Related posts

वन विभाग की मिली भगत से फॉरेस्ट की जमीन पर खोदा पंचायत ने तालाब।एकजुट होकर जिला पंचायत पहुंचे ग्रामीण, पंचायत में भ्रष्टाचार के लगाए आरोप।

Ravi Sahu

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने चूल्हें के धुंए से माताओं बहनों का स्वास्थ्य खराब होते देखा।इसलिए देश की हर मां का दुख दूर करने उज्जवला योजना बनाई !

Ravi Sahu

खून की कमी, रीड की हड्डी फेक्चर के मरीज को रेलवे कर्मचारी ने दिया बल्ड।

Ravi Sahu

गो सेवक संभाल रहे नगर में बीमार गायों का जिम्मा सूचना मिलते ही बाक्स लेकर पहुंच जाती है गौ सेवकों की टीम।

Ravi Sahu

आरोग्य भारती द्वारा बच्चो के साप्ताहिक योग का आयोजन।

Ravi Sahu

छुट्टी के बाद खाया खाना और फिर आया अटैक,,, मौत।डॉक्टर ने चेक किया तो पाया मृत

Ravi Sahu

Leave a Comment