Sudarshan Today
देशविदेश

NIA ने किया D-कंपनी के प्लान का खुलासा:दाउद ने भारत में हमलों के लिए स्पेशल यूनिट बनाई, दिल्ली और मुंबई में बड़े नेताओं और हस्तियों को बनाया टारगेट

डी-गैंग की एक साजिश की खबर भारतीय खुफिया एजेंसियों के हाथ लगी है। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने अपनी एफआईआर में इस साजिश का जिक्र किया है। NIA के मुताबिद डी-गैंग के सरगना और भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी दाउद ने भारत में हमलों के लिए एक स्पेशल यूनिट बनाई है। जिसके निशाने पर बड़े नेता और हस्तियां हैं।

हिंसा को हवा देना है मकसद
एफआईआर के मुताबिक, दाउद अपनी स्पेशल यूनिट के जरिए भारत में हमले करना चाहता है और उसका फोकस दिल्ली और मुंबई हैं। यहां के बड़े नेता और बड़ी हस्तियां उसके टारगेट हैं। दाउद विस्फोटक और घातक हथियारों से लैस इस यूनिट के जरिए भारत के कई इलाकों में हमले करना चाहता है। जांच एजेंसी के मुताबिक, ये हमलों का मकसद भारत के विभिन्न हिस्सों में हिंसा भड़काना है।

ED की कस्टडी में दाउद का भाई इकबाल कासकर
NIA के खुलासे से एक दिन पहले ही यानी शुक्रवार को ED ने दाउद के भाई इकबाल कासकर को कस्टडी में लिया है। मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में ED अगले 7 दिन यानी 24 फरवरी तक इकबाल से पूछताछ करेगी। ED ने हाल ही में दाउद और उसके करीबियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। ED के मुताबिक, ये लोग आतंकवादी गतिविधियों की फंडिंग कर रहे हैं।

इकबाल ने गैंगस्टर से रकम मांगी थी
ED के असिस्टेंट डायरेक्टर डीसी नाहक ने बताया कि सितंबर 2017 में एक बिल्डर की शिकायत पर इकबाल कासकर, मुमताज अजाज शेख, इसरार जमील सैय्यद और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ वसूली का केस दर्ज किया गया था। एक बिल्डर ने शिकायत में कहा था कि उससे इकबाल और दूसरे लोगों ने वसूली की रकम मांगी थी। 2015 में बिल्डर से एक दलाल ने सैय्यद के साथ मुलाकात की थी। सैय्यद ने कहा था कि वह दाउद का भाई है। उसने इकबाल से भी बिल्डर की बात कराई थी और धमकी दी थी कि अगर उसने वसूली की रकम नहीं दी तो उसे मार दिया जाएगा।

गैलेंट्री अवार्ड पा चुका IPS अधिकारी गिरफ्तार
राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने शुक्रवार को हिमाचल के IPS अधिकारी अरविंद दिग्विजय नेगी को गिरफ्तार किया। नेगी को नवंबर 2021 में एजेंसी की ओर से दर्ज एक OGW नेटवर्क मामले के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। ‌‌वे करीब एक साल से एजेंसी के रडार पर था। अरविंद को समूह लश्कर-ए-तैयबा के हुर्रियत टेरर फंडिंग मामले की जांच के लिए 2017 में गैलेंट्री अवार्ड (वीरता पुरस्कार) मिला था।

आर्मी कैंप में तैनात था पाकिस्तान का जासूस

राजस्थान के नसीराबाद आर्मी कैंप से एक पाकिस्तानी जासूस मोहम्मद यूनुस को गिरफ्तार किया गया है। जासूस पार्किंग में पर्ची काटने का काम करता था। आरोपी वॉट्सऐप के जरिए सामरिक सूचनाएं पाकिस्तान भेजता था और इसके बदले उसे पैसे मिलते थे। IB ने निगरानी की तो आरोपी की गतिविधियां संदिग्ध पाई गई थी। हिरासत में लेकर जयपुर मुख्यालय में पूछताछ की गई थी, इसके बाद गिरफ्तार किया गया है।

Related posts

रतलाम में ओलावृष्टि से किसानों की फसलें चौपट: रतलाम में शुक्रवार रात हुई ओलावृष्टि में बर्बाद हुई फसलें , जिले के दर्जनों गांव में हुआ नुकसान

Admin

कलेक्टर प्रतिभा पाल ने धान खरीदी केन्द्रों का किया निरीक्षण

Ravi Sahu

फल बना बम कैसे यह नही पता लेकिन किसान के हाथ के उड़े चितड़े

Ravi Sahu

लोक प्रिय क्षेत्रीय विधायक श्रीमती झूमा सोलंकी जी ने भीकनगांव क्षेत्र के विकास के लिए 20 लाख रुपयो के कार्यों भूमि पूजन किया

asmitakushwaha

महाराज ने नजर कड़ी टेड़ी तो भाग खड़े हुए फर्जी ट्रस्टी-

asmitakushwaha

नाकाबंदी के दौरान चौकसी बढ़ाने के लिए पुलिसकर्मियों के मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक

Ravi Sahu

Leave a Comment